गोल्डन वीजा स्कीम क्या है और यह वीजा किन लोगों को दिया जाता है?

आर्थिक एवं सामाजिक तौर पर दुनियाँ के सभी देश तीन प्रमुख श्रेणियों (विकसित, विकासशील एवं अविकसित) में बंटे हुए हैं। इसके साथ ही विभिन्न देशों की राजनीतिक एवं भौगोलिक स्थिति भी एक दूसरे से भिन्न होती है।

लिहाजा किसी व्यक्ति के मन में उसके जीवन के अनुकूल किसी अन्य देश में निवास करने की इच्छा उत्पन्न होना स्वाभाविक है और अधिकांश परिस्थितियों में यह विस्थापन विकासशील या अविकसित देशों से विकसित देशों की तरफ ही होता है।

विकसित देशों की ओर होने वाले विस्थापन को देखते हुए इस लेख में हम चर्चा करने जा रहे हैं किसी देश की नागरिकता प्राप्त करने के एक महत्वपूर्ण तरीके ‘निवेश द्वारा नागरिकता’ या गोल्डन वीजा स्कीम के बारे में साथ ही लेख में जानेंगे कुछ ऐसे देशों को, जो निवेश के माध्यम से नागरिकता उपलब्ध करवाते हैं।

नागरिकता क्या है?

नागरिकता या Citizenship किसी व्यक्ति विशेष के किसी देश के नागरिक होने का प्रमाण होता है। प्रत्येक देश अपने नागरिकों को कई विशेषाधिकार प्रदान करता है और कोई भी गैर-नागरिक इन सुविधाओं का लाभ नहीं ले सकता। इन अधिकारों में नागरिकों को दिए जाने वाले मूल अधिकार, मतदान का अधिकार आदि शामिल होते हैं।

नागरिकता प्राप्त करने के तरीके

कोई व्यक्ति कई तरीकों से किसी देश, जहाँ का वह नागरिक नहीं है, की नागरिकता प्राप्त कर सकता हालाँकि ये नियम प्रत्येक देश के अनुसार भिन्न हो सकते हैं।

किसी देश की नागरिकता प्राप्त करने का सबसे आसान तरीका ऐसे देश के नागरिक (पुरुष /महिला) से विवाह करना है। ऐसे व्यक्ति विवाह के बाद उस देश के स्थाई निवासी बन सकते हैं तथा एक निश्चित समय के पश्चात प्राकृतिक रूप से नागरिकता के लिए आवेदन कर सकते हैं।

यदि कोई व्यक्ति विवाह के अतिरक्त किसी अन्य प्रकार से भी किसी देश में स्थाई रूप से एक निश्चित समयावधि से निवास कर रहा हो, तो ऐसा व्यक्ति उस देश की नागरिकता के लिए योग्य होता है। निवास की समयावधि देशों के अनुसार भिन्न हो सकती है, उदाहरण के तौर पर अमेरिका में 5 साल (विवाह की स्थिति में 3 साल), जर्मनी में 8 साल आदि।

इसके अतिरिक्त यदि किसी व्यक्ति के माता-पिता में से कोई एक अथवा दोनों उस व्यक्ति के जन्म के दौरान किसी ऐसे देश के नागरिक थे, जहाँ की नागरिकता वह व्यक्ति लेना चाहता है तब ऐसे में वह व्यक्ति वंश के आधार पर उस देश की नागरिकता के लिए सीधे आवेदन कर सकता है।

निवेश द्वारा नागरिकता क्या है?

किसी देश की नागरिकता प्राप्त करने के कुछ सामान्य तरीकों को हमने ऊपर जाना लेकिन कई देश निवेश की एवज में भी नागरिकता प्रदान करते हैं। किसी भी देश की अर्थव्यवस्था में निवेश (Investment) एक बेहद महत्वपूर्ण कारक है, यह अर्थव्यवस्था के लिए ईंधन का कार्य करता है।

किसी देश में अधिक निवेश उस देश के उद्योगों को फलने-फूलने में मदद करता है, जिससे रोजगार के णए अवसर पैदा होते हैं और अंततः उस देश के निवासियों की जीवनशैली तथा समूची अर्थव्यवस्था में सुधार होता है। चूँकि निवेश अर्थव्यवस्था के लिए बेहद महत्वपूर्ण है अतः प्रत्येक देश अपने यहाँ बाहरी निवेश को आकर्षित करने की हर संभव कोशिश करता है।

Also Read This :

इसी के चलते कई देश एक निश्चित धनराशि का निवेश करने पर निवेशक तथा उसके परिवार को स्थायी निवास की सुविधा मुहैया करवाते हैं तथा एक निश्चित समय के बाद निवेशक प्राकृतिक रूप से उस देश की नागरिकता प्राप्त करने के लिए भी योग्य हो जाता है। इस प्रकार दी गयी नागरिकता को ही निवेश द्वारा नागरिकता कहा जाता है।

निवेश करने के विकल्प विभिन्न देशों में भिन्न-भिन्न हो सकते हैं, जैसे कुछ देश निवेशक को शेयर, बॉन्ड आदि में निवेश करने का विकल्प देते हैं, कुछ देश रियल एस्टेट में भी निवेश करने की छूट देते हैं, जबकि कुछ देश किसी व्यवसाय में निवेश कर एक निश्चित संख्या में रोजगार उत्पादित करने की शर्त रखते हैं।

गोल्डन वीजा स्कीम क्या है?

वीजा से हम सभी वाकिफ़ हैं, विदेश यात्रा के संबंध में यह शब्द अक्सर सुनाई देता है। वीजा किसी देश द्वारा, विदेशी नागरिकों को उस देश में प्रवेश करने की मंजूरी के तौर पर प्रदान किया जाने वाला एक दस्तावेज है। किसी भी देश में यात्रा करने के लिए उस देश की सरकार से यह मंजूरी प्राप्त करना अनिवार्य होता है।

सामान्यतः वीजा विभिन्न प्रकार के होते हैं, जो अलग अलग उद्देश्यों जैसे पर्यटन, शिक्षा, नौकरी, व्यवसाय आदि के लिए प्रदान किए जाते हैं, प्रत्येक प्रकार के वीजा की एक निश्चित समयावधि होती है।

वीजा का एक अन्य प्रकार गोल्डन वीजा (Golden VISA) है, जो कई बार समाचारों आदि में सुनाई देता है। कुछ वर्ष पूर्व जाने-माने फिल्म अभिनेता संजय दत्त को संयुक्त अरब अमीरात (UAE) द्वारा गोल्डन वीजा प्रदान किया गया था।

ऊपर हमनें निवेश द्वारा नागरिकता को समझा अतः ऐसे व्यक्ति जो किसी देश में निवेश द्वारा नागरिकता प्राप्त करना चाहते हैं, उन्हें उस देश की सरकार द्वारा गोल्डन वीजा प्रदान किया जाता है तथा एक निश्चित समयावधि के पश्चात गोल्डन वीजा धारक उस देश की नागरिकता के लिए आवेदन कर सकते हैं।

निवेश द्वारा नागरिकता देने वाले कुछ प्रमुख देश

आइए ऐसे कुछ देशों को देखते हैं, जो निवेशकों को निवेश के माध्यम से नागरिकता की सुविधा मुहैया करवाते हैं साथ ही जानते हैं इन देशों में इसके लिए क्या-क्या शर्तें हैं।

संयुक्त राज्य अमेरिका (United States of America)

विश्व के विकसित एवं शक्तिशाली देशों में शामिल अमेरिका दुनियाँ की सबसे मजबूत अर्थव्यवस्था है। सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र की जानी-मानी कंपनियाँ गूगल, फ़ेसबुक, माइक्रोसॉफ्ट, एप्पल आदि सब अमेरिका आधारित ही हैं, जिसके चलते यहाँ इस क्षेत्र में रोजगार के भी बहुतेरे अवसर हैं। इसके अतिरिक्त यह देश व्यवसाय, नवाचार आदि के दृष्टिकोण से भी अनेकों अवसर प्रदान करता है, इन कारणों के चलते इस देश का स्थाई निवास अथवा नागरिकता प्राप्त करना कई लोगों का सपना होता है।

अमेरिका निवेश के द्वारा यहाँ बसने वाले लोगों के लिए EB-5 वीजा प्रदान करता है, जिसके तहत अमेरिकी सरकार द्वारा एक निश्चित धनराशि का निवेश करने वाले व्यक्तियों को देश में स्थायी निवास अथवा अमेरिका का ग्रीन कार्ड प्रदान किया जाता है। 

USA

EB-5 वीजा के अंतर्गत निवेशकों को दो भिन्न क्षेत्रों में निवेश करने का अवसर प्राप्त होता है, इनमें पहला है TEA अथवा Targeted Employment Areas ये इसे क्षेत्र हैं जहाँ सामान्यतः रोजगार कम हैं, सरकार द्वारा निर्धारित ऐसे क्षेत्र में न्यूनतम 8 लाख डॉलर के निवेश द्वारा EB-5 वीजा प्राप्त किया जा सकता है।

दूसरे क्षेत्र की बात करें तो इसमें निवेशक किसी व्यवसाय को शुरू करने अथवा किसी व्यवसाय को बढ़ाने आदि के उद्देश्य से निवेश कर सकता है। इस प्रकार के निवेश में किसी क्षेत्र विशेष में निवेश करने की बाध्यता नहीं होती। चूँकि यहाँ निवेशक अपनी इच्छा के क्षेत्र में निवेश कर सकता है अतः इस प्रकार के निवेश के लिए निवेशक को न्यूनतम 10.05 लाख डॉलर का निवेश करना अनिवार्य होता है।

इटली (Italy)

इटली वैश्विक रूप से ख्याति प्राप्त यूरोप का एक महत्वपूर्ण देश है, जो मिलान, रोम और वेनिस जैसे प्रमुख शहरों के साथ हर साल लाखों पर्यटकों को आकर्षित करता है। इटालियन गोल्डन वीज़ा हेतु पात्र होने के लिए किसी व्यक्ति को इटालियन सरकारी बॉन्ड में न्यूनतम 2 मिलियन यूरो एवं सरकारी उद्यमों में कम से कम 500,000 यूरो का निवेश करना होता है।

संयुक्त अरब अमीरात (UAE)

UAE मध्य पूर्व में स्थित एक महत्वपूर्ण देश है, जो आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर, परिवहन, संचार प्रणाली एवं नागरिक सुरक्षा प्रदान करता है। यह देश बिजनेस करने के लिए एक बेहतरीन जगह है, UAE का सबसे प्रमुख शहर दुबई एक वैश्विक वाणिज्यिक केंद्र है।

UAE का गोल्डन वीजा प्राप्त करने के लिए देश के भीतर रियल एस्टेट में कम से कम 550,000 डॉलर का निवेश करना आवश्यक है, UAE का गोल्डन वीजा 10 वर्षों के लिए प्रदान किया जाता है, जिसके बाद इसे नवीनीकृत (Renew) किया जा सकता है।

यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom)

ब्रिटेन में निवास हेतु वीजा चाहने वाले निवेशक टियर 1 निवेश वीजा के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके तहत निवेशक को न्यूनतम £2 मिलियन का निवेश करने की आवश्यकता होती है और निवेशक एवं उसके परिवार को ब्रिटेन में अस्थायी निवास की अनुमति प्रदान की जाती है। 

इस अस्थाई निवास की अवधि साधारणतः 3 साल 4 महीने की होती है, जिसे निवेशक पुनः 2 वर्षों के लिए आगे बढ़ा सकता है और कम से कम 6 वर्ष बाद ब्रिटिश नागरिकता के लिए आवेदन कर सकता है।

स्पेन (Spain)

स्पेन ने 2013 में निवेश को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से सर्वप्रथम गोल्डन वीज़ा कार्यक्रम शुरू किया। इसके अनुसार निवेशक के पास अलग अलग क्षेत्रों में निवेश करने का विकल्प होता है। उदाहरण के तौर पर रियल एस्टेट में न्यूनतम €500,000 का निवेश, स्पेनिश ट्रेजरी बांड में न्यूनतम €1,000,000 का निवेश अथवा किसी व्यवसाय में कम से कम €1,000,000 का निवेश।

उक्त निवेशों के माध्यम से कोई निवेशक अपने परिवार समेत स्पेन में अस्थाई निवास प्राप्त कर सकता है। स्पेनिश निवेशक वीजा हर दो साल में नवीनीकृत किया जाता है। पाँच साल के बाद निवेशक स्थायी निवास तथा दस साल के बाद नागरिकता प्राप्त करने के लिए योग्य हो जाता है।

पुर्तगाल (Portugal)

पुर्तगाल पश्चिमी यूरोप का एक विकसित देश है। 2012 में शुरू किए गए निवेशक वीजा कार्यक्रम को पुर्तगाली सरकार द्वारा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय रूप से बढ़ावा दिया गया है। पुर्तगाली सरकार निवेशकों को विभिन्न रूप से एक निश्चित राशि को निवेश करने पर देश में अपने परिवार समेत निवास करने का अवसर देती है।

यह निवेश रियल एस्टेट के क्षेत्र में न्यूनतम €500,000, किसी कंपनी में न्यूनतम €1,000,000, शेयर, बॉन्ड आदि में €1,000,000 है, इसके अतिरिक्त व्यक्ति के पास न्यूनतम दस रोजगार पैदा करने का विकल्प भी है। पाँच वर्षों के पश्चात निवेशक पुर्तगाल की नागरिकता प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकता है।

अन्य देश

गोल्डन वीजा प्रदान करने वाले कुछ अन्य देश निम्नलिखित हैं-

विदेशों में बसे भारतीय

भारत जनसंख्या के लिहाज से चीन के बाद दूसरा सबसे बड़ा देश है। देश की आबादी तकरीबन 140 करोड़ है, अतः इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है, कि भारतीय नागरिक दुनियाँ के विभिन्न देशों में निवास कर रहें हों। विदेश मंत्रालय के अनुसार भारतीय मूल के तकरीबन 1.86 करोड़ लोग दुनियाँ के विभिन्न देशों में निवास कर रहे हैं, जिनमें अमेरिका, ब्रिटेन, सिंगापुर, नीदरलैंड, ऑस्ट्रेलिया तथा न्यू-जीलैंड जैसे देशों में भारतीयों की संख्या सर्वाधिक है।

इसके अतिरिक्त गैर-निवासी भारतीयों को देखें, जो रोजगार के उद्देश्य से भारत से बाहर विभिन्न देशों में निवास कर रहे हैं उनकी संख्या तकरीबन 1.34 करोड़ है। भारत से बढ़ते विस्थापन को देखते हुए कई देशों ने भारतीय नागरिकों के लिए ऐसे देश में नागरिकता या स्थाई निवास हेतु कड़े कानून बनाए हैं।

भारत से पश्चिमी देशों की ओर हो रहे अधिक विस्थापन में सरकारों का भी मुख्य योगदान रहा है। देश में कानून व्यवस्था हो, शिक्षा का स्तर हो, स्वास्थ्य सेवाएं हो तथा सफाई हो सरकारें लंबे समय से इन मुद्दों पर कार्य करने में असफल रहीं हैं। अतः इन सामाजिक समस्याओं के चलते ऐसे लोग जो विकसित देशों में कार्य करने में सक्षम हैं वे इन देशों में जीवन व्यतीत करने को अधिक महत्व देते हैं।

आर्टिकल शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *