PM Mudra Yojana: अब सभी को मिलेगा रोजगार, मोदी सरकार की इस बेहतरीन योजना का ऐसे उठाएं लाभ

Pradhan Mantri Mudra Yojana: केंद्र सरकार समय-समय पर विभिन्न सामाजिक वर्गों के लिए कई कल्याणकारी योजनाओं की शुरुआत करती रहती है। ऐसी ही एक योजना प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (Pradhan Mantri Mudra Yojana) की शुरुआत केंद्र सरकार द्वारा करी गयी है, जिसे खासकर देश के युवाओं को ध्यान में रखकर बनाया गया है। आज इस लेख में विस्तार से समझेंगे पीएम मुद्रा योजना क्या है? पीएम मुद्रा योजना के तहत कौन-कौन लाभ ले सकते हैं तथा इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया क्या है।

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (Mudra Yojana) क्या है?

गौरतलब है कि, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY) को देश के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा 8 अप्रैल, 2015 को लॉन्च किया गया था। इस योजना के अंतर्गत MUDRA- माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी की स्थापना करी गई है, जो एक सार्वजनिक क्षेत्र के वित्तीय संस्था के रूप में कार्य करता है।

पीएम मुद्रा योजना देश में उद्यमिता (Entrepreneurship) की भावना को बढ़ावा देने के उद्देश्य से शुरू करी गई है ताकि देश के भीतर रोजगार के अवसर पैदा किये जा सके, इस योजना के तहत गैर-कॉर्पोरेट, गैर-कृषि लघु/सूक्ष्म उद्यमों को 10 लाख रुपये तक का ऋण उपलब्ध कराया जाता है, 10 लाख तक का यह ऋण मुख्यतः ऐसे लोगों के लिए है जिनके पास मैन्युफैक्चरिंग, प्रोसेसिंग, व्यापार अथवा सेवा क्षेत्र जैसी गैर-कृषि गतिविधियों से आय उत्पन्न करने का बिजनेस प्लान तो है लेकिन निवेश करने के लिए पर्याप्त पूंजी नहीं है।

यह भी पढ़ें:

पीएम मुद्रा योजना के तहत उद्यमियों को ऋण वाणिज्यिक बैंकों, ग्रामीण बैंकों (RRBs), लघु वित्त बैंकों, सहकारी बैंकों, MFI (Micro Finance Institutions) और NBFC (Non-Banking financial Companies) द्वारा दिए जाते हैं। मुद्रा योजना के तहत लाभ लेने का इच्छुक तथा योग्य कोई भी व्यक्ति व्यक्ति ऊपर उल्लिखित किसी भी ऋणदाता संस्थान से संपर्क कर सकता है या मुद्रा पोर्टल के माध्यम से ऋण के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकता है।

PMMY योजना के अंतर्गत MUDRA (Micro Units Development and Refinance Agency) द्वारा उद्यम तथा उसके वित्त पोषण के विभिन्न चरणों को ध्यान में रखते हुए तीन भिन्न श्रेणियों में ऋण उपलब्ध करवाया जाता है जिनमें ‘शिशु’, ‘किशोर’ और ‘तरुण’ शामिल हैं।

मुद्रा योजना के लिए पात्रता

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना का लाभ लेने के लिए व्यक्ति को भारत का नागरिक होना चाहिए। इस योजना के माध्यम से केवल ऐसे उद्यमी ऋण ले सकते हैं, जिनके पास गैर-कृषि तथा गैर-कॉर्पोरेट क्षेत्र में व्यवसाय हेतु कोई योजना है और जिसमें आय उत्पन्न करने वाली निम्नलिखित गतिविधियां शामिल हैं-

  • Manufacturing (विनिर्माण)
  • Processing (प्रसंस्करण)
  • Trade (व्यापार)
  • Service Sector (सेवा क्षेत्र)
  • कोई भी ऐसा क्षेत्र जिसकी ऋण मांग ₹10 लाख से कम है

इन कार्यों के लिए ले सकते हैं मुद्रा लोन

मुद्रा लोन का इस्तेमाल अलग-अलग क्षेत्रों में कोई भी व्यवसाय शुरू करने के लिए किया जा सकता है, ऐसे ही कुछ मुख्य क्षेत्र तथा उनसे जुड़े व्यवसाय निम्नलिखित हैं-

ट्रांसपोर्ट सेक्टर : इस सेक्टर के अंतर्गत नया वाहन लेने के लिए लोन लिया जा सकता है, जिसका उपयोग माल की ढुलाई करने या निजी परिवहन के लिए किया जाए। उदाहरण के लिए ऑटो, ई-रिक्शा, ट्रांसपोर्ट वाहन, टैक्सी, इत्यादि।

सर्विस सेक्टर : इस सेक्टर में ऐसे सभी व्यवसाय शामिल हैं जिनके तहत ग्राहकों को किसी भी प्रकार की सेवा प्रदान करी जाती है, जैसे हेयर और ब्यूटी सैलून, टेलरिंग स्टोर, बुटीक, ड्राई क्लीनिंग, गैरेज, मेडिकल शॉप, जिम इत्यादि अतः इनमें से किसी भी व्यवसाय को शुरू करने के लिए मुद्रा योजना के तहत लोन लिया जा सकता है।

फूड सेक्टर : इस सेक्टर के तहत खाद्य प्रसंस्करण एवं खाद्य सामग्री उपलब्ध कराने से जुड़े बिजनेस शामिल हैं जैसे आचार बनाना, पापड़ बनाना, जैम/ जैली बनाना, जूस शॉप, मिठाई की दुकान, कैंटीन, रेस्टोरेंट आदि। इनमें से किसी भी व्यवसाय को शुरू करने के लिए मुद्रा योजना के तहत लोन लिया जा सकता है।

योजना के तहत मिलने वाले लोन

जैसा कि, हमनें पूर्व में भी बताया पीएम मुद्रा योजना के अंतर्गत लाभार्थियों को उनके उद्यम के अनुसार तीन भिन्न श्रेणियों (शिशु, किशोर और तरुण) में ऋण उपलब्ध कराए जाते हैं, ये तीनों श्रेणियाँ तथा इसके तहत मिलने वाले कर्ज की धनराशि निम्नलिखित है

लोन का प्रकारप्रदान की जाने वाली राशि
शिशु 50,000 रुपये तक
किशोर 50,000 रुपये से 5 लाख तक
तरुण 5 लाख से 10 लाख तक

लोन पर लगने वाला ब्याज

PMMY के द्वारा दिए जाने वाले लोन की ब्याज दरें विभिन्न बैंकों या वित्तीय संस्थानों के अनुसार भिन्न हो सकती है, भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की बात करें तो यहाँ आपको शिशु श्रेणी में लिए गए ऋण यानी 50,000 से कम के ऋण पर कोई ब्याज नहीं देना होगा, जबकि किशोर या तरुण किसी भी श्रेणी के तहत लिए गए ऋण (50,000 रुपये से 10 लाख रुपये तक) के लिए आपको 10 फीसदी की दर से ब्याज चुकाना होगा। इसके अलावा प्रोसेसिंग शुल्क की बात करें तो शिशु और किशोर श्रेणी के लिए यह शून्य है, जबकि तरुण श्रेणी के लिए यह लोन राशि का 0.50% + टैक्स है।

मुद्रा योजना के तहत आवश्यक दस्तावेज

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत ऋण लेने के लिए आवेदनकर्ता के पास निम्नलिखित दस्तावेज होने चाहिए

  • पहचान का प्रणाम जैसे आधार कार्ड / वोटर आइडी कार्ड / PAN कार्ड / ड्राइविंग लाइसेंस आदि
  • पते का प्रमाण जैस आधार कार्ड / टेलीफोन बिल / राशन कार्ड / बिजली का बिल / पासपोर्ट आदि
  • आय का प्रमाण पत्र
  • आवेदक की 2 पासपोर्ट साइज़ फ़ोटो जो 6 महीने से अधिक पुरानी ना हो
  • आखिरी 6 महीनों का बैंक स्टेटमेंट
  • यदि कोई लागू होता हो तो जाति (SC / ST / OBC) प्रमाण पत्र
  • यदि कोई लागू होता हो तो आवश्यक लाइसेंस की कॉपी
  • ऑफिस की ऑनरशिप का प्रमाण
  • बिजनेस के रजिस्ट्रेशन का प्रमाण पत्र
  • बैंक या वित्तीय संस्थान द्वारा मांगे गए अन्य दस्तावेज

मुद्रा लोन के लिए आवेदन कैसे करें?

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत ऋण लेने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन करें-

(i) ऐसे बैंक या वित्तीय संस्थान जहाँ से आप ऋण लेना चाहते हैं की वेबसाइट या ब्रांच में जाकर मुद्रा लोन के लिए आवेदन फॉर्म (Application Form) प्राप्त करें

(ii)आवेदन फॉर्म को सही से भरकर उसके साथ मांगे गए सभी दस्तावेजों को संगलग्न कर फॉर्म को जमा करें

(iii) आवेदन फॉर्म जमा करने के बाद बैंक द्वारा आपके द्वारा दी गई जानकारियाँ सत्यापित की जाएंगी और आपका लोन अप्रूव किया जाएगा

करोड़ों उद्यमियों को मिला फायदा

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत साल 2015 से अब तक करोड़ों उद्यमियों को इसका फायदा मिल चुका है। मुद्रा की ऑफिशियल वेबसाइट के अनुसार केवल वित्त वर्ष 2022-23 में ही तकरीबन 4.5 करोड़ लोगों को 3 लाख करोड़ से अधिक का ऋण उपलब्ध करवाया गया है।

आर्टिकल शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *